Wednesday, June 8, 2011

I know you are highly 'Imperfect', and I changed myself from 'Perfect' to 'Imperfect' , just to make a Perfect match with you... and you said, just because you've changed, you're not fit on me. . .


रहे जो हम चुप तो तुम भी चुप रहे
रहे जो तुम खुश तो हम भी खुश रहे
पर ना तो हम चुप थे और ना तुम खुश. . . !!



एक कमी थी जिंदगी में, जिसने मजबूर कर दिया जीने को, वर्ना आशियाँ तो हमने खोद ही रखा था. . .


आसानी से अगर कह सको तो कह दो, अगर नहीं...... तो भी कह दिया करो !!

No comments:

Post a Comment