Saturday, October 1, 2011



क्या जखम जो खुशनुमा तू था. . . न दवा न दुआ, हम मांगे भी तो और क्या. . ???
                                       
                                          (. . .)
देखा जो तुम्हे दूर से... तो तड़प के रह गये पास आने को-
हाय.........
ऐसी भी क्या मज़बूरी जो कोई वजह भी न रही अब तो चाहत दिखलाने को !!


                                         (. . .)
जब दिल धडके जान लेना किसी दिल ने आपको याद किया है. . .


                                         (. . .)

हर सुबह तुम्हे पाने की ख्वाइश में जीते हैं.... और हर शाम तेरे न मिलने के गम में मर जाते हैं !!
तबाह जिंदगी का आबाद सफ़र.... दुनिया भी सहम जाएगी याद कर इस दीवाने को . . . .


                                        (. . .)

because Love itself never dies... and we murder it. . . ppl act cruel, I wonder why. 

May all dead 'Loves' rest in peace, solicit the solitude & b granted. . .I pray.