Saturday, June 2, 2012

तेरी खुशियों में शामिल हम हो ना सके..
बैठ संग तेरे हम रो ना सके..
करूँ मैं क्या जो इक मुलाक़ात हो जाये-
तेरे दिल में रहकर भी हम तो तेरे हो ना सके !!

No comments:

Post a Comment